कोर्स के नाम पर महंगी किताबें नहीं दे सकेंगे सीबीएसई स्कूल

0
10

सीबीएसई स्कूलों में कोर्स के नाम पर निजी प्रकाशकों की महंगी-महंगी पुस्तकें शामिल की जाती हैं। जिससे प्रारंभिक कक्षाओं का कोर्स भी कुछ स्कूलों में तो चार से सात हजार तक बैठता है। जिसमें कॉपी-किताबें, कवर, पेंसिल, रंग आदि ही कुछ सामग्री होती है। सीबीएसई स्कूलों द्वारा एनसीईआरटी की पुस्तकें और एनसीईआरटी मानक के अनुसार ही कक्षाओं में विषयों का संचालन कराने जाने को लेकर भी प्रशासन गंभीर हो गया है। इस संबंध में जल्द ही सिटी मजिस्ट्रेट की अध्यक्षता में सीबीएसई स्कूल संचालकों के साथ बैठक भी होगी।
सीबीएसई स्कूलों के नाम पर कमीशन का खेल चलता है। सिलेबस को महंगा करने के लिए स्कूल संचालक न सिर्फ छोटी कक्षाओं में भी एनसीईआरटी की गाइडलाइन से हटकर कुछ विषय संचालित करते हैं बल्कि कोर्स महंगा करने और कमीशन अधिक हो इसके लिए निजी प्रकाशकों की महंगी किताबों को शामिल किया जाता है। जबकि एनसीईआरटी की हर कक्षा के लिए हर विषय की पुस्तक उचित दामों में भी उपलब्ध होती है जो कि केंद्रीय विद्यालयों और अन्य केंद्र सरकार द्वारा संचालित विद्यालयों में अपनाई जाती हैं। स्कूलों द्वारा सिलेबस के नाम पर महंगी पुस्तकों को शामिल करने को लेकर भी प्रशासन गंभीर हो गया है। सीबीएसई स्कूलों में सिर्फ एनसीईआरटी की पुस्तकें और सिलेबस लागू हो इसके लिए जल्द ही सिटी मजिस्ट्रेट की अध्यक्षता में एक बैठक भी होगी जिसमें स्कूल संचालकों को आवश्यक निर्देश दिए जाएंगे।

Download Amar Ujala App for Breaking News in Hindi & Live Updates. https://www.amarujala.com/channels/downloads?tm_source=text_share

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here