दिनांक 23 सितम्बर 2022

आगामी 06 माह के विकास कार्यों के लिए प्रशासन ने तैयार किया 21 सूत्रीय कार्यक्रम, 08 विभागों को सौंपी जिम्मेदारी।

ग्रामीण विकास और उद्यम प्रोत्साहन के लिए स्थानीय विकास की सम्भावनाओं को मिलेगी गति, 30 सितम्बर तक हर विभाग बनाएगा कार्ययोजना।

जिलाधिकारी श्री रविन्द्र कुमार माँदड़ और मुख्य विकास अधिकारी श्री नंदकिशोर कलाल के नेतृत्व में जनपद में विकास से जुड़े विभिन्न महत्वपूर्ण पहलुओं को एक साथ प्रभावी तरीके से लागू कराने के उद्देश्य से व्यापक दिशा निर्देशों के साथ अधिकारियों को 21 सूत्रीय कार्यक्रम पर कार्ययोजना तैयार करने के संबंध में निर्देश जारी किए गए हैं।

ग्रामीण क्षेत्रों में ढांचागत विकास के साथ-साथ आम जनमानस के जीवन स्तर को बेहतर बनाने एवं संसाधनों के समावेशी विकास को लेकर प्रशासनिक स्तर से आगामी 6 माह के लिए लक्ष्य निर्धारित किए गए हैं।

21 सूत्रीय कार्यक्रम को प्रभावी बनाने के लिए ग्रामीण विकास, पंचायती राज, बेसिक शिक्षा, मत्स्य पालन, कौशल विकास, चिकित्सा, आईसीडीएस एवं कृषि विभाग को नोडल विभाग के रूप में जिम्मेदारी सौंपी गई है।

मुख्य विकास अधिकारी ने बताया कि 21 सूत्रीय कार्यक्रम पर 30 सितंबर तक संबंधित विभाग के अधिकारियों द्वारा कार्य योजना तैयार कर ली जाएगी तथा 02 अक्टूबर से कार्य योजना पर प्रभावी तरीके से कार्य प्रारंभ हो जाएगा और आगामी 6 माह के भीतर इन सभी 21 लक्ष्यों को प्राप्त करने की दिशा में हर संभव जरूरी कदम उठाए जाएंगे। उन्होंने बताया कि सभी कार्य समय से पूर्ण हो उसके लिए साप्ताहिक रूप से समीक्षा भी होगी।

ग्राम विकास विभाग द्वारा प्रत्येक ब्लॉक में 05 मॉडल खेलकूद के मैदानों के विकास के साथ-साथ प्रत्येक ग्राम पंचायत में खेलकूद के मैदान का निर्माण कार्य, प्रत्येक न्याय पंचायत में स्वयं सहायता समूहों को सामूहिक गतिविधियों/ उद्यम कार्य के लिए निर्धारित स्थान के रूप में वर्क सेड का निर्माण कराया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.