साल भर से बाप कर रहा था दुष्कर्म, बेटी ने मृत बच्ची को दिया जन्म, कमरे में कैद कर रखता था

0
61

ख़बर सुनें

52 साल का बाप 23 साल की मंदबुद्धि बेटी को एक साल से हवस का शिकार बनाता रहा। मामले का खुलासा तब हुआ जब युवती को प्रसव पीड़ा शुरू हो गई। इस पर परिजन उसे सरकारी अस्पताल में लेकर पहुंचे। जहां युवती ने 9 माह की मृत बच्ची को जन्म दिया। डॉक्टरों ने मामले की सूचना महिला थाना पुलिस को दी।

पुलिस की पकड़ से बचने के लिए बाप भाग निकला लेकिन पुलिस ने युवती के बयान दर्ज करके आरोपी को गिरफ्तार कर लिया। महिला थाना पुलिस ने शुक्रवार को आरोपी पिता का मेडिकल टेस्ट करवाया। अब उसे 16 मई को कोर्ट में पेश किया जाएगा। घटना पंचकूला जिले के एक गांव की है। यह परिवार दूसरे राज्य से आकर यहां रह रहा था।

इसे भी पढ़ें- हरियाणा: 6 जिलों में 36 नए मामले, मरीजों की संख्या 854 पहुंची, कॉलेज और यूनिवर्सिटी 25 जून तक रहेंगे बंद

पुलिस अधिकारियों ने बताया कि बाप कई महीने तक अपनी बेटी को हवस का शिकार बनाता रहा। आरोपी के तीन बेटियां और दो बेटे हैं। पत्नी भी उसके साथ ही रहती है। यह परिवार लगभग सवा साल पहले ही गांव में आया था। मामले की किसी को भनक न लग जाए इसलिए आरोपी बेटी को बाहर नहीं जाने देता था।

वह दिन में बेटी को एक कमरे में बंद करके रखता था और उसे कमरे में ही खाने-पीने का सामान देता था। वहीं, मामले का खुलासा होते ही आरोपी बौखला गया और उसने आत्महत्या करने की कोशिश की लेकिन उसके बेटे ने किसी तरह उसे बचा लिया।

अल्ट्रासाउंड में हुआ गर्भवती होने का खुलासा
युवती के पेट में गुरुवार रात अचानक दर्द शुरू हो गया, जिसके बाद उसे सरकारी अस्पताल दाखिल करवाया गया। जहां पर अल्ट्रासाउंड के बाद पता चला कि लड़की के गर्भ में 9 माह का बच्चा पल रहा है। इसके बाद उसने एक नवजात को जन्म दिया, जिसकी मौत हो गई। मौत के बाद जब अस्पताल कागजी कार्रवाई करने लगा तो आरोपी बाप लड़की के पति के बारे में कोई जवाब नहीं दे पाया। इसके बाद अस्पताल ने मामले की सूचना पुलिस को दी। सूचना मिलने के बाद संबंधित चौकी प्रभारी गुलाब सिंह, महिला थाना प्रभारी नेहा चौहान मौके पर पहुंची।

पुलिस ने की युवती से लंबी पूछताछ
पुलिस ने युवती से काफी समय तक पूछताछ की। पहले तो वह डर के मारे कुछ बोलने को तैयार नहीं थी लेकिन बाद में उसने बताया कि उसका बाप ही उससे दुष्कर्म करता था। युवती ने इस बारे में परिवार के अन्य सदस्यों को जानकारी होने से साफ इंकार कर दिया। युवती ने बताया कि पिता उसके साथ कई महीने से घिनौनी हरकत कर रहा था और डरा रहा था। इसके चलते उसने किसी के सामने मुंह नहीं खोला।

अस्पताल में उपचाराधीन युवती की हालात सामान्य बताई जा रही है। युवती ने पुलिस को दिए बयान में भले ही परिवार के अन्य सदस्यों को इस बात की जानकारी होने से साफ इंकार कर दिया है। लेकिन पुलिस जांच में मां की भूमिका शक के घेरे में है। यही कारण है कि महिला थाना पुलिस युवती की मां से भी लगातार पूछताछ कर रही है।

महिला पुलिस अधिकारियों का मानना है कि युवती 9 माह की गर्भवती हो चुकी थी और उसकी मां एवं भाई-बहन भी साथ ही रहते हैं। ऐसे में परिवार ने मामले में आरोपी बाप को बचाने की कोशिश की है। वहीं यह जानकारी भी मिली है कि गर्भपात के लिए युवती को गर्भ निरोधक दवा खिलाई गई, जिससे बच्ची की गर्भ में मौत हुई है।

सार

  • एक साल से कर रहा था दुष्कर्म, प्रसव पीड़ा शुरू होने पर हुआ खुलासा
  • युवती ने सरकारी अस्पताल में मृत बच्ची की दिया जन्म, पिता गिरफ्तार
  • मां की भूमिका भी संदिग्ध, महिला थाना पुलिस पूछताछ करने में जुटी

विस्तार

52 साल का बाप 23 साल की मंदबुद्धि बेटी को एक साल से हवस का शिकार बनाता रहा। मामले का खुलासा तब हुआ जब युवती को प्रसव पीड़ा शुरू हो गई। इस पर परिजन उसे सरकारी अस्पताल में लेकर पहुंचे। जहां युवती ने 9 माह की मृत बच्ची को जन्म दिया। डॉक्टरों ने मामले की सूचना महिला थाना पुलिस को दी।

पुलिस की पकड़ से बचने के लिए बाप भाग निकला लेकिन पुलिस ने युवती के बयान दर्ज करके आरोपी को गिरफ्तार कर लिया। महिला थाना पुलिस ने शुक्रवार को आरोपी पिता का मेडिकल टेस्ट करवाया। अब उसे 16 मई को कोर्ट में पेश किया जाएगा। घटना पंचकूला जिले के एक गांव की है। यह परिवार दूसरे राज्य से आकर यहां रह रहा था।

इसे भी पढ़ें- हरियाणा: 6 जिलों में 36 नए मामले, मरीजों की संख्या 854 पहुंची, कॉलेज और यूनिवर्सिटी 25 जून तक रहेंगे बंद

पुलिस अधिकारियों ने बताया कि बाप कई महीने तक अपनी बेटी को हवस का शिकार बनाता रहा। आरोपी के तीन बेटियां और दो बेटे हैं। पत्नी भी उसके साथ ही रहती है। यह परिवार लगभग सवा साल पहले ही गांव में आया था। मामले की किसी को भनक न लग जाए इसलिए आरोपी बेटी को बाहर नहीं जाने देता था।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here