Lockdown 3.0 : दून विवि में एक सितंबर से होंगे दाखिले, यूजी और पीजी के सभी कोर्स में मेरिट से एडमिशन

0
36

ख़बर सुनें

दून विश्वविद्यालय में नए सत्र के दाखिले एक सितंबर से होंगे। विवि की अकादमिक परिषद की बैठक में इस पर मुहर लग गई है। इस बार अखिल भारतीय स्तर की प्रवेश परीक्षा के बजाय पीएचडी को छोड़कर अंडर ग्रेजुएट और पोस्ट ग्रेजुएट कोर्सेज में मेरिट के आधार पर दाखिले किए जाएंगे।

दून विवि के कुलपति डॉ. अजीत कुमार कर्नाटक की अध्यक्षता में हुई अकादमिक परिषद की बैठक में लॉकडाउन के बीच यूजीसी की गाइडलाइंस के तहत नए सत्र की परिपाटी तय की गई। बैठक में दाखिले और परीक्षाओं को लेकर अहम फैसले किए गए।

विवि के कुलसचिव डॉ. मंगल सिंह मंद्रवाल ने बताया कि 30 मई तक सभी कोर्सेज में ऑनलाइन कोर्स पूरे किए जाएंगे, यह तय किया गया है। इसके बाद एक जून से 30 जून तक विवि में ग्रीष्मकालीन अवकाश होंगे। इसके बाद एक जुलाई से ऑफलाइन परीक्षाएं शुरू होंगी।

बैठक में नए सत्र के दाखिलों पर भी अहम फैसला लिया गया। एक सितंबर से विवि की प्रवेश प्रकिया शुरू होगी। यूजी और इंटिग्रेटेड पीजी के कोर्सेज में 12वीं के अंकों की मेरिट के आधार पर दाखिले किए जाएंगे, जबकि ग्रेजुएशन के बाद के पीजी कोर्सेज में ग्रेजुएशन के अंकों की मेरिट के आधार पर दाखिला होगा। इस बार अखिल भारतीय स्तर की प्रवेश परीक्षा आयोजित नहीं की जाएगी।

अब मिड सेमेस्टर नहीं होगा

विवि में अभी तक 20 अंकों का मिड सेमेस्टर और 80 अंकों का फाइनल सेमेस्टर होता है। बैठक में इसमें बदलाव कर दिया गया है। अब मिड सेमेस्टर नहीं होगा, बल्कि सीधे 100 अंकों का फाइनल सेमेस्टर एग्जाम होगा। यह भी तय किया गया है कि कोरोना के प्रकोप के बीच अब डिजरटेशन के लिए बाहर से एग्जामिनर नहीं आएगा। इसके बजाय सीधे संबंधित विभाग के विभागाध्यक्ष ही मार्किंग करेंगे।

सार

  • पीएचडी को छोड़कर यूजी और पीजी के सभी कोर्स में अब मेरिट से एडमिशन
  • मिड सेमेस्टर किया खत्म, फाइनल सेमेस्टर की 100 अंकों का होगा
  • विवि की अकादमिक परिषद की बैठक में लिए गए कई अहम फैसले

विस्तार

दून विश्वविद्यालय में नए सत्र के दाखिले एक सितंबर से होंगे। विवि की अकादमिक परिषद की बैठक में इस पर मुहर लग गई है। इस बार अखिल भारतीय स्तर की प्रवेश परीक्षा के बजाय पीएचडी को छोड़कर अंडर ग्रेजुएट और पोस्ट ग्रेजुएट कोर्सेज में मेरिट के आधार पर दाखिले किए जाएंगे।

दून विवि के कुलपति डॉ. अजीत कुमार कर्नाटक की अध्यक्षता में हुई अकादमिक परिषद की बैठक में लॉकडाउन के बीच यूजीसी की गाइडलाइंस के तहत नए सत्र की परिपाटी तय की गई। बैठक में दाखिले और परीक्षाओं को लेकर अहम फैसले किए गए।

विवि के कुलसचिव डॉ. मंगल सिंह मंद्रवाल ने बताया कि 30 मई तक सभी कोर्सेज में ऑनलाइन कोर्स पूरे किए जाएंगे, यह तय किया गया है। इसके बाद एक जून से 30 जून तक विवि में ग्रीष्मकालीन अवकाश होंगे। इसके बाद एक जुलाई से ऑफलाइन परीक्षाएं शुरू होंगी।

बैठक में नए सत्र के दाखिलों पर भी अहम फैसला लिया गया। एक सितंबर से विवि की प्रवेश प्रकिया शुरू होगी। यूजी और इंटिग्रेटेड पीजी के कोर्सेज में 12वीं के अंकों की मेरिट के आधार पर दाखिले किए जाएंगे, जबकि ग्रेजुएशन के बाद के पीजी कोर्सेज में ग्रेजुएशन के अंकों की मेरिट के आधार पर दाखिला होगा। इस बार अखिल भारतीय स्तर की प्रवेश परीक्षा आयोजित नहीं की जाएगी।

अब मिड सेमेस्टर नहीं होगा

विवि में अभी तक 20 अंकों का मिड सेमेस्टर और 80 अंकों का फाइनल सेमेस्टर होता है। बैठक में इसमें बदलाव कर दिया गया है। अब मिड सेमेस्टर नहीं होगा, बल्कि सीधे 100 अंकों का फाइनल सेमेस्टर एग्जाम होगा। यह भी तय किया गया है कि कोरोना के प्रकोप के बीच अब डिजरटेशन के लिए बाहर से एग्जामिनर नहीं आएगा। इसके बजाय सीधे संबंधित विभाग के विभागाध्यक्ष ही मार्किंग करेंगे।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here