ग्रामीणों की अड़ंगेबाजी से मौरंग खदान बंद

0
37

ख़बर सुनें

हमीरपुर। पारा कंडौर की खदान ग्रामीणों के अड़ंगेबाजी से दो दिनों से बंद है। खदान को जाने वाले रास्ते से वाहनों की आवाजाही को बंद करा दिया गया है।
खदान संचालकों का कहना है बैलगाड़ी और ट्रैक्टर-ट्राली से मौरंग चोरी करने वाले स्थानीय असरदार लोगों ने ग्रामीणों को उकसाकर खदान का संचालन प्रभावित किया है। इन्हीं लोगों की चोरी की वजह से खदान के रास्ते का पुल टूट गया है।
ग्रामीण इसे मुद्दा बनाकर खदान का संचालन बंद किए हैं। जिससे राजस्व की क्षति हो रही है। कुरारा के पारा कंडौर (टीकापुर) गांव में खदान संख्या 20/5 है। खदान जाने के दो रास्ते हैं। एक रास्ते में पुल पड़ता है।
पट्टाधारक ओमप्रकाश, रामऔतार का कहना है पुल वाले रास्ते से खदानों के वाहनों की आवाजाही नहीं होती है। जिस रास्ते पर पुल है वहां से गांव के कुछ असरदार लोगों की ट्रैक्टर ट्राली और बैलगाड़ियां निकलती हैं।

हमीरपुर। पारा कंडौर की खदान ग्रामीणों के अड़ंगेबाजी से दो दिनों से बंद है। खदान को जाने वाले रास्ते से वाहनों की आवाजाही को बंद करा दिया गया है।

खदान संचालकों का कहना है बैलगाड़ी और ट्रैक्टर-ट्राली से मौरंग चोरी करने वाले स्थानीय असरदार लोगों ने ग्रामीणों को उकसाकर खदान का संचालन प्रभावित किया है। इन्हीं लोगों की चोरी की वजह से खदान के रास्ते का पुल टूट गया है।

ग्रामीण इसे मुद्दा बनाकर खदान का संचालन बंद किए हैं। जिससे राजस्व की क्षति हो रही है। कुरारा के पारा कंडौर (टीकापुर) गांव में खदान संख्या 20/5 है। खदान जाने के दो रास्ते हैं। एक रास्ते में पुल पड़ता है।

पट्टाधारक ओमप्रकाश, रामऔतार का कहना है पुल वाले रास्ते से खदानों के वाहनों की आवाजाही नहीं होती है। जिस रास्ते पर पुल है वहां से गांव के कुछ असरदार लोगों की ट्रैक्टर ट्राली और बैलगाड़ियां निकलती हैं।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here