विस्तार

कोरोना महामारी के बीच महाराष्ट्र की राजधानी मुंबई में एक चौंकाने वाला खुलासा हुआ है। दरअसल, बृहन्मुंबई महानगर पालिका (बीएमसी) ने एक डाटा के हवाले से जानकारी दी है कि मुंबई के अस्पतालों में ऑक्सीजन सपोर्ट पर 96 फीसदी वही मरीज हैं जिनका टीकाकरण नहीं हुआ है। वहीं शहर के डॉक्टरों ने भी माना कि जिन लोगों ने अब तक वैक्सीन नहीं लगवाई है उन्हें ऑक्सीजन सपोर्ट या अतिरिक्त सहायता की जरूरत पड़ रही है। इनमें अधिकतर लोगों की उम्र 50 साल से अधिक है।

ऑक्सीजन बेड पर भर्ती मरीजों में से 96 प्रतिशत ने नहीं लिया टीका 
छह जनवरी तक के आंकड़ों को देखते हुए बीएमसी कमिश्नर इकबाल चहल ने कहा कि ऑक्सीजन बेड पर भर्ती 1900 कोरोना मरीजों में से 96 प्रतिशत ऐसे हैं, जिन्होंने टीका नहीं लिया जबकि सिर्फ चार फीसदी ही टीकाकृत हैं।

टीका न लेने वालों को कोरोना का सबसे ज्यादा खतरा: डॉक्टर
वहीं एक डॉक्टर ने स्पष्ट करते हुए कहा कि बहुत से लोगों ने मामलों में उछाल आने के बाद टीका लेना शुरू किया है। उन्होंने कहा कि इस मसले पर अभी गहन अध्ययन नहीं किया गया है लेकिन ऑक्सीजन सपोर्ट पर बिना टीका लिए मरीजों की अधिक संख्या साफ इशारा करती है कि कैसे टीका न लेने वालों को कोरोना का सबसे ज्यादा खतरा है।

महाराष्ट्र में कोरोना के 40,925 मामले
महाराष्ट्र में कोरोना के मामलों में बेतहाशा वृद्धि हो रही है। राज्य में शुक्रवार को  कोरोना के 40,925 नए केस दर्ज किए गए। इनमें आधे से ज्यादा मरीज अकेले मुंबई शहर हैं। मुंबई में बीते 24 घंटों में 20,971 नए मरीज मिले।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *