40 क्वारंटीन सेंटरों पर रोके जाएंगे 15 हजार मजदूर

0
7

महानगरों में फंसे करीब 15 हजार मजदूरों को वापस लाने की प्रशासनिक कवायद तेज हो गईं। इन मजदूरों को 14 दिन रोकने के लिए जिले में 40 क्वारंटीन सेंटर बनाए जा रहे हैं। अब तक विभिन्न महानगरों से करीब दो सौ लोग यहां लाए गए। इनमें कोटा (राजस्थान) के 79 छात्र भी शामिल हैं।
मजदूरों को कस्तूरबा गांधी आवासीय विद्यालय (महोखर) में क्वारंटीन किया गया है। गृह जनपद लाए जा रहे 15 हजार मजदूरों को रोकने के लिए शहर मुख्यालय के 20, नरैनी व बबेरू के 4-4 और पैलानी के 12 इंटर कालेज/डिग्री कालेजों को क्वारंटीन सेंटर में तब्दील किया जा रहा है। प्रत्येक विद्यालय में 2 से 3 सौ बेड होंगे। छह सशस्त्र पुलिस कर्मी सहित लेखपाल, चिकित्सक आदि मौजूद रहेंगे। जिला विद्यालय निरीक्षक विनोद कुमार ने बताया कि सभी अधिग्रहीत सरकारी व गैर सरकारी विद्यालयों के प्रधानाचार्यों को निर्देश दिए हैं कि वह बाहरी जनपदों से आने वाले प्रवासियों के ठहराने के लिए प्रशासन की हर संभव मदद करें।
7 बसों में आए 175 छात्र और मजदूर
बांदा। मुख्यमंत्री के आदेशों के बाद महानगरों में फंसे मजदूरों को गृह जनपद लाने का सिलसिला जारी है। बुधवार को सात बसों से 175 छात्र व मजदूर यहां लाए गए। प्रयागराज से आईं कुल 7 बसों में 120 छात्र और 55 मजदूर लाए गए हैं। ये मजदूर गुजरात में फंसे थे। सभी की बदौसा में थर्मल स्कैनिंग हुई। मेडिकल कालेज में भी स्वास्थ्य परीक्षण के बाद 14 दिन के लिए क्वारंटीन सेंटर भेज दिया गया।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here