आईपीएल से घरेलू सीजन के टकराने की आशंका, बीसीसीआई ने कहा- अभी कोई वैकल्पिक प्लान नहीं, लेकिन बदलाव के लिए तैयार

0
14
  • बोर्ड के क्रिकेट ऑपरेशन के जीएम सबा करीम ने कहा- घरेलू क्रिकेट के लिए जो भी विंडो उपलब्ध होगी, उसमें ज्यादा से ज्यादा मैच कराने की कोशिश करेंगे
  • इस साल मार्च में होने वाली ईरानी ट्रॉफी को भी कोरोना की वजह से टालना पड़ा, अगर आगे इसे कराया जाता है तो घरेलू सीजन लंबा खिंच सकता है

मुंबई. दुनियाभर में क्रिकेट टूर्नामेंट पर कोरोनावायरस का असर पड़ा है। भारतीय क्रिकेट भी इससे अछूता नहीं है। कोविड-19 की वजह से पहले आईपीएल को अनिश्तिकाल के लिए टाल दिया गया। अब घरेलू क्रिकेट पर भी इसका असर पड़ता दिख रहा है। इस साल घरेलू सीजन की शुरुआत अगस्त में होगी। इसके एक महीने बाद सितंबर में आईपीएल होने की संभावना जताई जा रही है। ऐसे में आईपीएल से इसके टकराने की आशंका है। बीसीसीआई के पास भी फिलहाल कोई वैकल्पिक प्लान तैयार नहीं है।

बोर्ड के क्रिकेट ऑपरेशन के जनरल मैनेजर सबा करीम ने कहा कि फिलहाल हमारे पास 2020-21 सीजन के लिए कोई ठोस बैकअप प्लान नहीं है। घरेलू सीजन अगस्त में शुरू होना है। इसमें अभी काफी वक्त बचा है। हम महीने दर महीने समीक्षा कर रहे हैं। उन्होंने आईपीएल और घरेलू सीजन के टकराने को लेकर कहा कि इस समय इस विषय पर बात करना मुश्किल है। इस समय क्रिकेट से ज्यादा स्वस्थ और सुरक्षित रहना जरूरी है। मुझे लगता है कि धीरे-धीरे लॉकडाउन के हालात सुधरेंगे। हम इसे लेकर सकारात्मक हैं। हमारी कोशिश होगी कि मौजूदा हालात का बेहतर इस्तेमाल कर पाएं। घरेलू क्रिकेट के लिए जो भी विंडो उपलब्ध होगी उसमें हम ज्यादा से ज्यादा मैच कराने की कोशिश करेंगे।

कोरोना की वजह से ईरानी ट्रॉफी को टालना पड़ा था

2019-20 में घरेलू क्रिकेट सीजन अगस्त में दिलीप ट्रॉफी से शुरू होकर पिछले महीने रणजी ट्रॉफी के फाइनल के साथ ही खत्म हो गया था। हालांकि, सीजन का आखिरी टूर्नामेंट ईरानी कप था। जो रणजी ट्रॉफी के फाइनल के 4 दिन बाद शुरू होना था। लेकिन कोरोना की वजह से बोर्ड ने इसे अनिश्चितकाल के लिए टाल दिया।

बोर्ड ने पिछले सीजन में 2035 घेरलू मैच कराए

करीम ने कहा कि पिछले घरेलू सीजन में बोर्ड ने महिला और पुरुष दोनों वर्ग में 2035 मैच आयोजित किए थे। इसमें से 470 मुकाबले सीनियर पुरुष वर्ग में हुए थे। वहीं, 2018 में घरेलू सर्किट में 8 नई टीमों को भी जोड़ा गया था। हालांकि, इस बार घरेलू सीजन कराना चुनौती होगा। क्योंकि जिस वक्त घरेलू सीजन चल रहा है, उस समय देश में मॉनसून सक्रिय रहता है। इसी दौरान आईपीएल के होने की भी संभावना है। इसलिए हमें जरूरत के हिसाब से लचीला रुख अपनाना होगा। हम सीजन में जो भी बदलाव करेंगे, वह खिलाड़ियों और राज्य क्रिकेट संघों के हित में ही होगा।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here