90 किमी जाकर ब्रेन हैमरेज मरीज की बचाई जान, सुमेरपुर निवासी विनय ने कानपुर जाकर किया रक्तदान

0
37

ख़बर सुनें

हमीरपुर। कानपुर के रीजेंसी हास्पिटल में भर्ती ब्रेन हैमरेज के मरीज को ओ-निगेटिव ब्लड की जरूरत पड़ी। इसकी मांग सोशल मीडिया पर की गई। जानकारी होने पर मरीज की जान बचाने के लिए 90 किमी दूर जाकर सुमेरपुर निवासी विनय गुप्ता ने रक्तदान किया। सोशल मीडिया की मदद से मरीज को ब्लड देकर उसकी जिंदगी बचाने का प्रयास समाजसेवी अशोक निषाद गुरू ने किया।
कानपुर नगर के नौबस्ता निवासी शिव सागर सिंह का ब्रेन हैमरेज हुआ था। जिनका कानपुर के रीजेंसी हास्पिटल में एक माह से इलाज चल रहा है। चिकित्सकों ने खून की कमी बताते हुए ब्लड की व्यवस्था कराए जाने की बात कही थी। जिस पर मरीज के दोस्त शहर के बंगाली मोहल्ला निवासी दीपू धुरिया से ओ-निगेटिव ब्लड की मदद की गुहार लगाई।
दोस्त को इस हालत में देखकर दीपू ने समाजसेवी व नगर पालिका कुलदीप निषाद के छोटे भाई अशोक निषाद गुरू को समस्या की जानकारी दी। इस पर अशोक निषाद ने ओ निगेटिव ब्लड की मांग करते हुए मरीज की जान बचाने की अपील सोशल मीडिया पर की।
पोस्ट पड़ते ही भरुआसुमेरपुर निवासी विनय गुप्ता ने ओ-निगेटिव ब्लड देने की बात कह समाजसेवी व मरीज का साथी दीपू धुरिया के साथ 90 किमी दूर कानपुर के रीजेंसी हास्पिटल पहुंचे। जहां सोमवार को रक्तदान कर मरीज की जान बचाई। रक्तदाता के इस सराहनीय कार्य की सोशल मीडिया पर सराहना हो रही है।

हमीरपुर। कानपुर के रीजेंसी हास्पिटल में भर्ती ब्रेन हैमरेज के मरीज को ओ-निगेटिव ब्लड की जरूरत पड़ी। इसकी मांग सोशल मीडिया पर की गई। जानकारी होने पर मरीज की जान बचाने के लिए 90 किमी दूर जाकर सुमेरपुर निवासी विनय गुप्ता ने रक्तदान किया। सोशल मीडिया की मदद से मरीज को ब्लड देकर उसकी जिंदगी बचाने का प्रयास समाजसेवी अशोक निषाद गुरू ने किया।

कानपुर नगर के नौबस्ता निवासी शिव सागर सिंह का ब्रेन हैमरेज हुआ था। जिनका कानपुर के रीजेंसी हास्पिटल में एक माह से इलाज चल रहा है। चिकित्सकों ने खून की कमी बताते हुए ब्लड की व्यवस्था कराए जाने की बात कही थी। जिस पर मरीज के दोस्त शहर के बंगाली मोहल्ला निवासी दीपू धुरिया से ओ-निगेटिव ब्लड की मदद की गुहार लगाई।

दोस्त को इस हालत में देखकर दीपू ने समाजसेवी व नगर पालिका कुलदीप निषाद के छोटे भाई अशोक निषाद गुरू को समस्या की जानकारी दी। इस पर अशोक निषाद ने ओ निगेटिव ब्लड की मांग करते हुए मरीज की जान बचाने की अपील सोशल मीडिया पर की।

पोस्ट पड़ते ही भरुआसुमेरपुर निवासी विनय गुप्ता ने ओ-निगेटिव ब्लड देने की बात कह समाजसेवी व मरीज का साथी दीपू धुरिया के साथ 90 किमी दूर कानपुर के रीजेंसी हास्पिटल पहुंचे। जहां सोमवार को रक्तदान कर मरीज की जान बचाई। रक्तदाता के इस सराहनीय कार्य की सोशल मीडिया पर सराहना हो रही है।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here