राज्य में कोरोना की टेस्टिंग और इलाज मुफ्त, नवी मुंबई में बेवजह घूमने पर 6 महीने की जेल

0
12
  • केंद्र सरकार ने शुक्रवार को राज्य में मरीजों के इलाज के लिए पूल टेस्टिंग और प्लाज्मा थैरेपी की मंजूरी दे दी
  • महाराष्ट्र में शुक्रवार को कोरोना संक्रमण से 18 लोगों ने दम तोड़ा, मरने वालों की संख्या 301 हुई

मुंबई. महाराष्ट्र सरकार ने राज्य में कोरोना की टेस्टिंग और इलाज मुफ्त कर दिया है। चिकित्सा शिक्षा मंत्री अमित देशमुख ने लातूर में शुक्रवार शाम को यह ऐलान किया। उन्होंने बताया कि सरकारी मेडिकल कॉलेजों, डेंटल कॉलेजों और इनसे जुड़े अस्पतालों में कोरोना से संबंधित सभी जांच और इलाज मुफ्त में किया जाएगा। उधर, सरकार ने रामजान के दौरान मुस्लिम बहुल इलाकों में ड्रोन से निगरानी करने के आदेश भी जारी किए। वहीं, नवी मुंबई में लॉकडाउन के दौरान बेवजह घर से बाहर घूमने वालों को छह महीने की सजा होगी।

महाराष्ट्र में कोरोना संक्रमण के मरीजों में लगातार इजाफा हो रहा है। शुक्रवार को 394 नए केस आए। इसके साथ राज्य में मरीजों की संख्या 6817 हो गई है। वहीं, शुक्रवार को 18 लोगों की मौत हुई। अब तक 301 लोगों की जान जा चुकी है।

एक दिन में 117 मरीज ठीक हुए
महाराष्ट्र में शुक्रवार को 117 संक्रमित मरीज ठीक होकर घर गए। राज्य में ठीक होने वाले संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़कर 957 हो गई है। शुक्रवार को संक्रमण के कारण माए गए 18 लोगों में से मुंबई के 11, पुणे के पांच और मालेगांव के दो हैं। इनमें 12 पुरुष और 6 महिलाएं हैं। 18 में से 12 मरीजों में डायबिटीज, हाई ब्लड प्रेशर, हार्ट डिजीज और किडनी की समस्या थी। महाराष्ट्र में आज कोरोना संक्रमित मरीजों की मृत्यु दर 4.4 प्रतिशत तक पहुंच गई है।

मंत्री ने कहा- ज्यादा पैसे खर्च होने के डर से लोग बीमारी छिपा रहे
चिकित्सा शिक्षा मंत्री देशमुख ने कहा, ‘कोरोना के मरीजों को आसानी से इलाज उपलब्ध हो सके और इलाज के लिए ज्यादा से ज्यादा संक्रमित मरीज खुद सामने आएं, इसके लिए यह मुफ्त इलाज का फैसला लिया गया है। उन्होंने कहा, ‘कई मरीज सिर्फ इसलिए सामने नहीं आ रहे हैं, क्योंकि उन्हें ऐसा लग रहा है कि इसके इलाज पर बहुत पैसा खर्च करना पड़ सकता है। सरकार के इस फैसले से मरीजों की यह दुविधा खत्म हो जाएगी।

रमजान के महीने में ड्रोन से होगी निगरानी
लॉकडाउन के बीच शनिवार से रमजान का पवित्र महीना शुरू हो गया है। इस दौरान लोगों की भीड़ एक जगह जमा न हो इसलिए मुस्लिम बहुल इलाकों की ड्रोन से निगरानी करने का फैसला किया गया है। मुंबई पुलिस उस खबर को सिरे से खारिज कर दिया है, जिसमें कहा गया था कि रमजान के महीने में पुलिस ने दोपहर 12 से तीन बजे तक दुकानें खोलने की अनुमति दी है। मुंबई पुलिस प्रवक्ता प्रणय अशोक ने कहा कि मुंबई पुलिस ने इस तरह का कोई भी आदेश नहीं निकाला है।

यह तस्वीर धारावी की है। रमजान महीने के पहले शुक्रवार लोगों ने बाजार से जरूरी समान खरीदा। यहां अब तक 200 से ज्यादा संक्रमित मरीज सामने आ चुके हैं।
प्रशासन ने जरूरी सामानों की आपूर्ति और सरकारी कर्मचारी को ऑफिस पहुंचाने के लिए बेस्ट के बसों की सेवाएं ली जा रही हैं। एहतियात के तौर रोज बसों और उनसे कर्मचारियों को सैनिटाइज किया जाता है।

नवी मुंबई: बाहर घूमने वालों को होगी 6 महीने की जेल

  • नवी मुंबई में पुलिस और प्रशासन ने सख्ती बढ़ा दी है। बेवजह घरों के बाहर घूमने वालों और घरों की छतों पर इकट्ठे हो रहे लोगों पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी। पूरे शहर की निगरानी 16 ड्रोन कैमरों से की जा रही है।
  • लोगों पर कार्रवाई के लिए एक स्पेशल दस्ता गठित किया गया है। इसमें एक पुलिस निरीक्षक, तीन पुलिस कर्मचारी और 15 ड्रोन ऑपरेटर शामिल हैं। दोषी व्यक्तियों को 6 महीने तक की जेल अथवा 1000 रुपए के आर्थिक दंड अथवा दोनों सजा एक साथ भुगतनी पड़ सकती है। अभी तक पुलिस ने 10 आरोपियों और 14 सोसायटियों के विरुद्ध मामला दर्ज भी कर चुकी है।
मुंबई में एक शख्स अपने घर की खिड़की से एक बाज को दाना खिलाता हुआ। लॉकडाउन के कारण शहर में सन्नाटा पसरा है। पशु-पक्षी कई जगह बीच सड़क में दिख रहे हैं।

सभी प्राइवेट क्लीनिक फिर से शुरू होंगे

कोरोनावायरस के कारण दूसरी बीमारियों से जूझने वाले मरीजों को मुसीबत का सामना करना पड़ रहा है। ऐसे में बीएमसी स्वास्थ्य विभाग ने महनागर के सभी निजी क्लीनिक को फिर से खोलने का निर्देश दिया है। इन्हें कुछ दिन पहले डॉक्टरों में कोरोना के बढ़ते मामलों के बाद बंद कर दिया गया था। फिर से क्लीनिक शुरू करने वालों को सोशल डिस्टेंसिंग और मास्क सहित दूसरी जरूरी नियमों का पालन करना होगा।

मुंबई में कई इलाकों में हार्ड लॉकडाउन लगा है। इस वजह किराना दुकानों को भी सिर्फ एक से दो घंटे खोलने की मंजूरी दी गई है।

जेलों में बंद 7 हजार कैदियों की पैरोल पर रिहाई होगी
राज्य की विभिन्न जेलों में कैद लगभग 7 हजार कैदियों की पेरोल पर रिहाई जल्द होगी। बॉम्बे हाई कोर्ट ने राज्य सरकार को निर्देश दिए हैं कि वह उन कैदियों और विचाराधीन कैदियों की रिहाई की प्रक्रिया तेज करे, जिन्हें वैश्विक महामारी के चलते अंतरिम जमानत अथवा पैरोल पर अस्थाई रूप से रिहा करने के लिए चिह्नित किया गया है।

मुंबई पुलिस की एक टीम ने मीनार मस्जिद इलाके में पैदल मार्च किया है। शहर के कई इलाकों की ड्रोन से निगरानी हो रही है।
मुंबई की मीनार मस्जिद के बाहर ड्यूटी पर तैनात पुलिसकर्मी, इस दौरान ज्यादातर ने हाथ में ग्लव्स और चेहरे पर मास्क पहना।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here