25 मार्च को देश में कोरोना मरीजों के लिए 70 अस्पताल थे, आज 900 से ज्यादा हैं, वेंटिलेटर्स की संख्या भी 14 हजार से बढ़कर 50 हजार हुई

0
4
  • लॉकडाउन के एक महीने में सरकार ने मेडिकल इंफ्रास्ट्रक्चर बढ़ाया, लेकिन जरूरत के हिसाब से यह अब भी बहुत कम
  • एक महीने में टेस्टिंग में 10 गुना का इजाफा हुआ, पहले तीन से चार हजार लोगों की टेस्टिंग होती थी, अब रोज 35 हजार की टेस्टिंग

नई दिल्ली. कोरोना संक्रमण रोकने के लिए ठीक एक महीने पहले यानी 25 मार्च से देशभर में 21 दिनों का लॉकडाउन शुरू हुआ था। तब तक देश में कोरोना के 603 पॉजिटिव मिल चुके थे। इनमें से 11 की मौत हुई थी और 43 मरीज ठीक हो चुके थे। तब देश में कोरोना मरीजों के इलाज के लिए सिर्फ 70 कोविड डेडिकेटेड अस्पताल थे। पीपीई किट, एन-95 मास्क, वेंटिलेटर की संख्या जरूरत के हिसाब से काफी कम थी। इस एक महीने में इन सब में बढ़ोतरी देखने को मिली है। कोविड-19 अस्पतालों की संख्या 70 से बढ़कर 900 हो गई है। अब हर रोज 25 हजार पीपीई किट तैयार हो रहे हैं। वेंटिलेटर्स की संख्या 14 हजार से बढ़कर 50 हजार के करीब पहुंच चुकी है। हालांकि, जरूरत के हिसाब से यह अभी बहुत कम है। पढ़ें, लॉकडाउन के इस एक महीने में देश में कोरोना का ग्राफ कैसे बढ़ा और सरकार ने क्या तैयारियां की?

लॉकडाउन के समय हर 5 दिन में संक्रमितों की संख्या दोगुनी हो रही थी
स्वास्थ्य मंत्रालय का दावा है कि लॉकडाउन शुरू होने पर संक्रमितों की संख्या बढ़ने की रफ्तार में कम हुई है। 24 से 30 मार्च के बीच 1251 लोग पॉजिटिव पाए गए थे। संक्रमितों के डबल होने की दर 5.2 थी। मतलब हर पांच दिन में संक्रमितों की संख्या दोगुनी हो रही थी। लॉकडाउन के दूसरे हफ्ते यानी 31 मार्च से 6 अप्रैल के बीच इसमें और तेजी देखी गई। 4.2 के डबलिंग रेट के साथ 4421 केस सामने आए।

तीसरे हफ्ते (7-13 अप्रैल) से डबलिंग रेट में गिरावट दर्ज की गई। उस बीच 10,363 मामले आए और डबलिंग रेट 6.0 रहा। चौथे हफ्ते डबलिंग रेट बढ़कर 6 से बढ़कर 8.6 दिन हो गया। अब पांचवें हफ्ते हर 10 दिन में संक्रमितों की संख्या दोगुनी हो रही है। मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने पिछले दिनों यह दावा किया था कि अगर उस दौरान लॉकडाउन और बाकी जरूरी कदम नहीं उठाए गए होते तो 15 अप्रैल तक देश में संक्रमितों की संख्या 8 लाख हो गई होती। वहीं, शुक्रवार को नीति आयोग के सदस्य डॉ वीके पॉल ने कहा कि लॉकडाउन का फैसला वक्त पर ना लिया गया होता तो आज 23 हजार की जगह 73 हजार संक्रमित हो सकते थे।

एक महीने में टेस्टिंग की क्षमता में भी बढ़ोतरी हुई है। देश में अब 360 लैब में कोरोना की जांच होती है।

118 लैब में हर दिन 3 हजार टेस्टिंग होती थी, अब 360 लैब में 30 से 35 हजार जांच हो रहीं 
इंडियन काउंसिल फॉर मेडिकल रिसर्च (आईसीएमआर) के अनुसार 25 मार्च तक देश में 118 लैब थीं। हर दिन तीन हजार से चार हजार टेस्ट हुआ करते थे। काउंसिल के रिसर्च मैनेजमेंट, पॉलिसी, प्लानिंग एंड कोआर्डिनेशन सेल के हेड डॉ. रजनीकांत बताते हैं कि अब देश में 360 लैब हैं, इनमें 87 प्राइवेट हैं। इन लैब्स में हर रोज अब 30 से 35 हजार लोगों का कोरोना टेस्ट हो रहा है। मतलब इस एक महीने में टेस्टिंग क्षमता में 10 गुना की बढ़ोतरी हुई है। डॉ. रजनी कहते हैं कि लैब की संख्या में हर दिन बढ़ोतरी हो रही है।

पटना की एक फैक्ट्री में हेल्थ वर्कर्स के लिए पीपीई किट तैयार करते कर्मचारी।  

3.34 लाख पीपीई किट थीं, अब बढ़कर 50 लाख हो गई
स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक, 30 मार्च तक देशभर के अस्पतालों में 3.34 लाख पीपीई किट भेजे जा चुके थे। उस दौरान 11 मैन्युफैक्चरिंग यूनिट्स किट बनाने का काम शुरू कर चुकी थीं। केंद्र सरकार ने 21 लाख अतिरिक्त किट का ऑर्डर भी दिया था। लॉकडाउन के इस एक महीने में करीब 70 लाख पीपीई किट देशभर के अस्पतालों में बांटी जा चुकी हैं। टेक्सटाइल मिनिस्ट्री की निगरानी में देश की 104 मैन्युफैक्चरिंग कंपनियां भी पीपीई किट तैयार करने लगी हैं। हर रोज एक लाख किट तैयार हो रहे हैं।

80 लाख एन-95 मास्क भी तैयार
25 मार्च तक देश के अलग-अलग अस्पतालों में 11.95 लाख एन-95 मास्क स्टॉक में थे। उस दौरान दो कंपनियां इसे तैयार कर रहीं थीं। 30 मार्च तक 6 लाख 60 हजार अतिरिक्त मास्क अस्पतालों में केंद्र सरकार की ओर से भेजे गए। इस एक माह के लॉकडाउन में एन-95 मास्क के उत्पादन में भी तेजी दिखी। अब तक 80 लाख से ज्यादा एन-95 मास्क तैयार हो चुके हैं। देश की 100 कंपनियां प्रतिदिन एक लाख मास्क तैयार करने लगी हैं।

यह तस्वीर कर्नाटक के एक कोविड-19 अस्पताल की है। एक महीने के लॉकडाउन में देशभर में वेंटिलेटर की संख्या में इजाफा हुआ।

वेंटिलेटर की संख्या 14 हजार से बढ़कर 50 हजार हुई
स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, 25 मार्च तक देश के अलग-अलग अस्पतालों में 14 हजार वेंटिलेटर थे। सरकार ने उस दौरान 10 हजार वेंटिलेटर नोएडा की एक कंपनी और 30 हजार वेंटिलेटर भारत इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड को तैयार करने का ऑर्डर दिया था। चीन से भी 10 हजार वेंटिलेटर मंगवाए गए थे। इसके अलावा कई अन्य निजी क्षेत्र की कंपनियों ने भी मैन्युफैक्चिरिंग शुरू कर दी थी। इन सबकी मदद से आज देश के अस्पतालों में वेंटिलेटर की संख्या 14 हजार से बढ़कर 50 हजार के करीब हो गई है। मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने बताया कि 9 स्वदेशी कंपनियों को 59 हजार वेंटिलेटर तैयार करने का ऑर्डर दिया गया है। अगले एक हफ्ते में ये मिलने शुरू हो जाएंगे।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here