निजी डॉक्टर ओपड में मरीजों का इलाज करेंगे

0
4
 लॉकडाउन के दौरान जिला चिकित्सालय की ओपीडी बंद होने के बाद जिलाधिकारी ने मरीजों की सुविधा के लिए निजी चिकित्सकों की ड्यूटी लगाई है। ये चिकित्सक अलग-अलग स्थान पर मरीजों को देखेंगे। मरीजों को देखने का समय दोपहर बारह बजे से दोपहर एक बजे तक रहेगा। साथ ही मरीज को पहले फोन कर चिकित्सक से समय लेना होगा, जिसके बाद चिकित्सक की ओर से मोबाइल पर संदेश प्राप्त होगा। इस संदेश को दिखाने के बाद ही मरीज खुद को दिखा सकेंगे।
कोरोन वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए सरकार की ओर से संपूर्ण लॉकडाउन घोषित किया गया है। ऐसे में जिला अस्पताल की ओपीडी भी बंद कर दी गई है, जिससे रोगियों को दिक्कतें आ रही हैं। लिहाजा, रोगियों की समस्याओं के निस्तारण के लिए जिलाधिकारी आन्जनेय कुमार सिंह से वैकल्पिक व्यवस्था की है। इसके लिए निजी चिकित्सकों का सहयोग लिया गया है। इसके तहत निजी चिकित्सक दोपहर बारह बजे से दोपहर एक बजे तक निर्धारित स्थान पर बैठेंगे, जहां मरीज खुद को दिखा सकेंगे। लेकिन, इसके लिए मरीज को पहले तो कंट्रोल रूम फोन करना होगा, जिसके बाद कंट्रोल रूम संबंधित चिकित्सक को फोन के माध्यम से जानकारी देंगे, जिसके बाद चिकित्सक रोगी को मिलने का समय देंगे और एक मेसेज भेजेंगे, जिसके बाद ही मरीज खुद को चिकित्सक को दिखा सकेगा। ये चिकित्सक जिला पंचायत, रजा इंटर कॉलेज, रजा डिग्री कॉलेज, हामिद इंटर कॉलेज पर मरीजों को देखेंगे।

रामपुर। लॉकडाउन के दौरान जिला चिकित्सालय की ओपीडी बंद होने के बाद जिलाधिकारी ने मरीजों की सुविधा के लिए निजी चिकित्सकों की ड्यूटी लगाई है। ये चिकित्सक अलग-अलग स्थान पर मरीजों को देखेंगे। मरीजों को देखने का समय दोपहर बारह बजे से दोपहर एक बजे तक रहेगा। साथ ही मरीज को पहले फोन कर चिकित्सक से समय लेना होगा, जिसके बाद चिकित्सक की ओर से मोबाइल पर संदेश प्राप्त होगा। इस संदेश को दिखाने के बाद ही मरीज खुद को दिखा सकेंगे।

कोरोन वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए सरकार की ओर से संपूर्ण लॉकडाउन घोषित किया गया है। ऐसे में जिला अस्पताल की ओपीडी भी बंद कर दी गई है, जिससे रोगियों को दिक्कतें आ रही हैं। लिहाजा, रोगियों की समस्याओं के निस्तारण के लिए जिलाधिकारी आन्जनेय कुमार सिंह से वैकल्पिक व्यवस्था की है। इसके लिए निजी चिकित्सकों का सहयोग लिया गया है। इसके तहत निजी चिकित्सक दोपहर बारह बजे से दोपहर एक बजे तक निर्धारित स्थान पर बैठेंगे, जहां मरीज खुद को दिखा सकेंगे। लेकिन, इसके लिए मरीज को पहले तो कंट्रोल रूम फोन करना होगा, जिसके बाद कंट्रोल रूम संबंधित चिकित्सक को फोन के माध्यम से जानकारी देंगे, जिसके बाद चिकित्सक रोगी को मिलने का समय देंगे और एक मेसेज भेजेंगे, जिसके बाद ही मरीज खुद को चिकित्सक को दिखा सकेगा। ये चिकित्सक जिला पंचायत, रजा इंटर कॉलेज, रजा डिग्री कॉलेज, हामिद इंटर कॉलेज पर मरीजों को देखेंगे।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here