राहत भरी खबर.. गले मिले फिर भी बच गए कोरोना संक्रमित होने से

0
32

स्वास्थ्य विभाग के अफसरों को बेसब्री से था इंतजार.. रिपोर्ट आने के बाद चेहरों से हटा तनाव
बरेली। मुंबई से कोरोना संक्रमण लेकर लौटे सिरौली और मीरगंज के युवकों के परिवार और सगे-संबंधियों के 28 सैंपल निगेटिव निकलने के बाद सबसे ज्यादा राहत की सांस स्वास्थ्य विभाग के अफसरों ने ली। आईवीआरआई और स्वास्थ्य विभाग के बीच तालमेल की कमी की वजह से ही दोनों संक्रमित कई घंटे अपने परिवार वालों के संपर्क में रहे थे लिहाजा उनके परिवार वालों के भी संक्रमित होने की आशंका दो दिन से अफसरों को दहला रही थी लेकिन बड़ी गनीमत रही कि सिरौली के युवक के पिता के अलावा संक्रमण और किसी में नहीं फैला।

मुंबई से लौटने के बाद सिरौली और मीरगंज के युवक खुद ही अपनी स्क्रीनिंग कराने पहुंचे थे। सरकारी अस्पताल से दोनों का सैंपल जांच के लिए आईवीआरआई भिजवाकर दोनों को क्वारंटीन करा दिया गया था। आईवीआरआई से जारी पहली रिपोर्ट में दोनों को निगेटिव बताया गया तो उन्हें क्वारंटीन सेंटर से डिस्चार्ज करके घर भेज दिया गया। मुंबई से बगैर संक्रमित हुए घर लौट आने का दोनों परिवारों में जश्न भी मना लेकिन कुछ ही घंटे बाद आईवीआरआई से दोनों को फिर क्वारंटीन कराकर दोबारा सैंपल जांच के लिए भिजवाने का मेसेज आया तो स्वास्थ्य विभाग के अफसर सकते में आ गए। दोनों युवकों का दोबारा सैंपल भेजा गया तो रिपोर्ट पॉजिटिव आई। इसके बाद अफसर उनके परिवार के लोगों के भी संक्रमित हो जाने की आशंका से घिर गए थे।
दोनों युवकों को आइसोलेट करने के बाद उनके परिवार के लोगों और उनके संपर्क में आए सगे संबंधियों के साथ 28 लोगों के सैंपल जांच के लिए भेजे गए थे। इनकी रिपोर्ट रविवार रात आई तो स्वास्थ्य विभाग के अफसरों ने राहत की सांस ली। इन लोगों में से सिरौली के युवक के पिता को छोड़कर कोई और पॉजिटिव नहीं निकला। लिहाजा सभी लोगों को होम क्वारंटीन होने की हिदायत देकर सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया गया।

बिहारमान नगला, भुता के पूल की आज आ सकती है रिपोर्ट

शनिवार रात राजस्थान से लौटने वाले इज्जतनगर बिहारमान नगला और भुता के सिंघाई के दो प्रवासी परिवारों के नौ सदस्यों का पूल सैंपल पॉजिटिव आया था। चार और पांच सदस्यों के इन दोनों परिवारों के सभी लोगों का रविवार को अलग-अलग सैंपल लेकर जांच को आईवीआरआई भेजा गया था। एसीएमओ डॉ. गौतम ने बताया कि दोनों पूल में शामिल लोगों की रिपोर्ट रविवार को नहीं मिल पाई। अब सोमवार को रिपोर्ट मिलने की संभावना है। उन्होंने बताया कि मीरगंज और सिरौली के दोनों सक्रमितों के परिजना में सिरौली के युवक के पिता को छोड़ बाकी अन्य सगे संबंधी और परिजन की रिपोर्ट निगेटिव मिली है।

जिले पर मंडराया पांच हॉटस्पॉट का खतरा

स्वास्थ्य विभाग की ओर से जांच को भेजे गए बिहारमान नगला और भुता के पॉजिटिव पूल के अलग-अलग सैंपल की रिपोर्ट आने के बाद जिले में पांच हॉटस्पॉट बनने की आशंका जताई जा रही है। अफसरों के मुताबिक शासनादेश के तहत पॉिजिटिव पूल में संक्रमित का पता न लगने की वजह से इन दोनों इलाकों को फिलहाल हॉटस्पॉट नहीं बनाया गया है। सोमवार को रिपोर्ट मिलने पर ही कोई निर्णय लिया जाएगा। बता दें कि जिले में अभी तक मीरगंज, रामनगर और बिहारीपुर करोलान में हॉटस्पॉट बन चुके हैं। सोमवार को पूल के सदस्यों की रिपोर्ट में से पॉजिटिव मिलने पर पांच हॉटस्पॉट हो जाएंगे।

सैंपल लेने वाली टीम होगी क्वारंटीन

प्रवासियों के पॉजिटिव सैंपल मिलने पर सैंपल लेने वाली टीम को भी एहतियातन क्वारंटीन किया जाएगा। संदिग्ध व्यक्ति का सैंपल लेने वाले एलटी समेत उसे लाने वाले एंबुलेंस चालक-अटेंडेंट और एमएमयू की टीम जो भी सैंपलिंग के दौरान मौजूद थी, उसके सारे लोग क्वारंटीन होंगे। चूंकि बड़ी तादाद में संवदेनशील राज्यों और जिलों से लौट रहे लोगों के संक्रमित होने की आशंका जताई जा रही है। इनमें जितने ज्यादा संक्रमित मिलेंगे, उसी अनुपात में स्वास्थ्य कर्मियों के भी क्वारंटीन होने की तादाद बढ़ सकती है। अफसरों को इस वजह से आगे स्टाफ की समस्या पैदा होने की भी आशंका सता रही है।

18 पूल समेत 36 संदिग्ध संक्रमितों के सैंपल

स्वास्थ्य विभाग की ओर से रात करीब साढ़ आठ बजे प्राप्त रिपोर्ट के अनुसार रविवार को तीन सौ बेड अस्पताल में 429 लोगों की स्क्रीनिंगकी गई। इसमें से 36 लोगों के संदिग्ध मिलने पर उनका सैंपल लिया गया। दूसरी ओर, मेडिकल मोबाइल यूनिट की टीम ने अभिषेक त्यागी के निर्देशन में 18 पूल सैंपल लिए, जिन्हें जांच के लिए सोमवार की सुबह आईवीआरआई भेजा जाएगा।

आयुष्मान योजना के पैनल में शामिल अस्पताल को मिलेगी मुफ्त पीपीई किट, दूसरी सुविधाएं
बरेली। सरकार ने निजी अस्पतालों में आयुष्मान के पात्र मरीजों के इलाज के लिए पीपीई किट समेत दूसरे संसाधन देने की योजना बनाई है। इसके लिए कोआर्डिनेटर डॉ. अनुराग ने कई अस्पतालों की सूची शासन को भेजी है। उन्हें जरूरत के हिसाब से पीपीई किट समेत अन्य सामानों की सप्लाई की जाएगी। आयुष्मान योजना के तहत जिले में 90 अस्पताल इंपैनल्ड हैं।
आयुष्मान योजना के नोडल अधिकारी एसीएमओ डॉ. अशोक कुमार ने बताया कि कोरोना से बचाव के लिए लॉकडाउन में भी बरेली में करीब चार हजार मरीजों का इलाज हो चुका है। प्रदेश के अन्य जिलों में बेहद कम संख्या में मरीजों को इलाज दिया गया है। अब शासन की तरफ से इन अस्पतालों को पीपीई किट दी जा रही है ताकि मरीजों के इलाज में उन्हें सहूलियत मिल सके। ब्यूरो
13 जिलों के स्वास्थ्यकर्मियों को दी वेंटिलेटर ऑपरेशन की ट्रेनिंग

बरेली। आईएमए सभागार में रविवार को नोएडा से आई टीम ने बरेली समेत 13 जिलों के स्वास्थ्यकर्मियों को वेंटीलेटर संचालन के बाबत प्रशिक्षण दिया गया। सीएमओ डॉ. विनीत शुक्ल ने बताया कि ट्रेनिंग में एनेस्थेटिक, फिजिशियन, स्टाफ नर्स, ओटी टेक्नीशियन व अन्य शामिल रहे। दो शिफ्ट में हुई ट्रेनिंग के पहले सत्र में डॉ. सौरभ सिंह ने और दूसरे सत्र डॉ. गौरव शर्मा ने प्रशिक्षण कार्यक्रम का संचालन किया। ब्यूरो

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here